A green thumb that got out of hand

Desh Bir Sharma

IN recent months I had felt a keen desire to go green. It meant using green waste from the kitchen for composting. It meant favouring organically grown farm produce, especially vegetables and fruit.

I had a small piece of land 2 km away from home. I decided to use it for growing vegetables for ourselves. I got plant-beds prepared in about two marlas of land. From the nursery, in I bought seeds and saplings. Two beds were used to plant brinjals and some tomato saplings. Another two were used to sow seeds of okra. Other beds received French beans. The last two went to cucumber and karela seeds.

Meanwhile, composting was in progress in a pit at home. All peals and leftovers of organic stuff found their way to the pit. After 15 days I found myself hurrying to the vegetable beds every morning to nurse my green wards. Manure from the pit played its role and after nearly 40 days, brinjals, beans and lady-finger plants displayed such fecundity that I had to go for harvesting every third day. Not knowing what to do with such volumes, my wife became generous. Neighbours, friends and relatives now came to realise how we were facing the problem of plenty.

A conscious effort was made to reap the produce at the most tender stage. The results were amazing. We had never seen such tenderness in vegetables fetched from the market. There was a kind of taste of freshness never experienced earlier. Yet , this plenty made us compulsive vegetable dispensers. Three domestic helps were administered this dose plenty of times. However, one of them confessed that her children did not like brinjals. That was a bathetic point in my green story.

Then the tomato plants came up with such bumper yield that for nearly one and a half months, we didn’t buy from the market. Rather, these reached many other kitchens too.

By the end of June, the yield tapered off. This was a welcome relief because some beneficiaries had started believing that they were being obliged with throwaway stuff. That is what happens when you get a thing without paying a price. That was my lesson.

Yet, something more was to come. I had emptied the compost pit in the flower-bed outside our house. One day, I found hundreds of seedlings pushing their tiny heads from the seeds that had stayed in the compost. By now I have planted papaya in almost all possible available spaces and gifted stout saplings to many. I am still left with many more, awaiting papaya-lovers (not many are expected to volunteer).

Left slightly wiser by the experience, I have now started growing vegetables on the roof-top in grow-bags, using coco peat and compost, for a family of two, lest the green gift of nature should be underestimated by people who receive it for free.

Source Link: https://www.tribuneindia.com

Posted in Miscellaneous | Comments Off on A green thumb that got out of hand

Karunanidhi’s Punjab connect

KS Chawla

THE late Justice Gurnam Singh of the Punjab and Haryana High Court, who was Chief Minister of Punjab, and M Karunanidhi, DMK supremo and five-time Chief Minister of Tamil Nadu, are considered pioneers of seeking greater autonomy for states and federalism in the country.

The SAD had organised a conference in Batala in 1968, where a resolution was passed for the greater autonomy to states. The resolution was moved by Gurnam Singh.

In 1969, when Gurnam Singh was the CM, he invited Karunanidhi to Ludhiana to discuss the issue of autonomy to states. They held a meeting in the canal rest house and later held a press conference, declaring that they would soon convene a conclave of non-Congress CMs in this regard.

I had attended the press conference, but unfortunately, differences arose in the SAD over the nomination to the Rajya Sabha biennial election. Gurnam Singh wanted to support Giani Bhupinder Singh, who had served as jathedar Akal Takht and was a renowned scholar of Sikh scriptures.

Sant Fateh Singh, who was president of the SAD, was in favour of Santokh Singh of Delhi. Both Giani Bhupinder Singh and Santokh Singh contested and Giani Bhupinder Singh was elected RS member. Sant Fateh Singh was unhappy with the result. During the Vidhan Sabha session, Gurnam Singh asked Balwant Singh, who was finance minister, to present a vote on account on the finance Bill, but he refused, and the government fell.

Meanwhile, PM Indira Gandhi had found Gurnam Singh a capable politician and came to Punjab to address a rally in Ludhiana and extended support to him.

To quote Gurbir Singh, Gurnam Singh’s son, his father travelled to Madras in the plane of VV Giri, acting President after the death of Zakir Husain; and Gurnam Singh and Karunanidhi announced support for the candidature of Giri, who was nominated by Indira Gandhi as the presidential candidate against Sanjiva Reddy. Giri won the election and there was a split in the Congress.

Indira Gandhi appointed Gurnam Singh India’s High Commissioner to Australia. While flying to Delhi from Madras (union minister Kumaramangalam was also onboard), the plane crashed, killing all passengers. This was the end of a brilliant politician.

Surjit Singh Barnala, who served as CM of Punjab during militancy and was union agriculture minister in the Janata government, also had very good ties with Karunanidhi. The Centre appointed Barnala as the Governor of Tamil Nadu and sought an adverse report from him against the Karunanidhi government. But he refused. This act solidified their friendship. Barnala was given another term of five years in Tamil Nadu.

Source Link: https://www.tribuneindia.com

Posted in Miscellaneous | Comments Off on Karunanidhi’s Punjab connect

‘Ameer Nishan’ as it really was

Parbina Rashid

It was not Anubhav Sinha’s appeal to everyone (Pakistanis included) to watch Mulk legally or illegally (it is banned in Pakistan) that made me visit my nearest cinema hall when it opened this Friday. Nor was it for the apprehensions expressed by certain columnists that the film raises uncomfortable questions, especially at a time when the National Register of Citizens (NRC) and the Citizenship Amendment Bill (2016) are hot topics.

For that matter, nor have I had enough of those ‘flattering’ comments like ‘she is not a typical Muslim’ whenever I find myself unwittingly being a part of a conversation that is derogatory towards Muslims. Or, because so often I have had to justify myself to people who can spot an ‘exceptional Muslim’ from the ‘typical lot’ from a distance — how being a Muslim I speak Assamese, and not Urdu.

Well, the reason that pulled me to the theatre was my newly acquired knowledge that Anubhav Sinha had studied at Aligarh Muslim University which is my alma mater too. So, as a fellow AMUite, I just wanted to see if the cultural sensibilities of AMU had crept into Sinha’s writing or direction. I was looking for subtle hints, but Sinha gave me a tell-tale sign — Ameer Nishan Lodge.

The name ‘Ameer Nishan’ was enough to take me down memory lane. It is the name of the market which I, as an undergrad student of Women’s College and resident of Abdullah Hall, found myself in every Friday and Sunday, the days we were allowed an outing. And sometimes even on a non-outing day, if I could hoodwink the security at the gate, pretending to be a day-scholar.

With shops for clothes, rickety eateries that offered the basics like aloo tikki and seekh kebab, and an upmarket Archies Gallery to cater to blossoming romances, Ameer Nishan was an oasis for an 18-year-old, providing succour to the parched soul.

Ameer Nishan was the Tinder of our time. It was the place where boy met girl as she sifted through beautiful patchwork dupattas in a store, or while driving a hard bargain with the friendly tailor. This would be followed with some good-natured sleuthing on the girl, finally sealing the deal with a love letter or a card! The Archies Gallery did a roaring business by providing expression to the expression-less.

Sinha’s Ameer Nishan, the shady lodge, is nowhere close to the Ameer Nishan that I know of. But he spoke for me completely when he presented his case on citizenship and prejudice as part of a courtroom drama, dissecting tropes about Muslims that they breed too much, don’t focus on education, train their children to be terrorists, etc.

He gave me a voice, and assurance; that Ameer Nishan of my memory would remain Ameer Nishan — it won’t turn into another Batla House.

Source Link: https://www.tribuneindia.com

Posted in Miscellaneous | Comments Off on ‘Ameer Nishan’ as it really was

Defend the right to disagree

Lalit Mohan

For the moment Kanhaiya Kumar is off the hook. JNU will have to start ‘disciplinary’ proceedings against him afresh, if at all. And over two years after the ruckus there, the Delhi Police has not found enough actionable evidence to frame charges against him and his cohorts on the grounds of ‘sedition’. As expected, no action has been taken against those who morphed his speech either.

This pause in the proceedings gives us another chance to ask this question: How should a mature democracy — assuming we are one — deal with transgressions of this nature by some of its junior citizens? We can take a cue from the debate organised by the Oxford University Union on February 9, 1933, the motion for which was ‘This House will in no circumstances fight for its King and Country’. Eminent speakers weighed in on both sides of the argument. The motion was actually carried, 275 votes to 153 — 64 per cent in favour.

As expected, conservative Brits were shocked and outraged. The Daily Express wrote: ‘There is no question but that the woozy-minded Communists, the practical jokers, and the sexual indeterminates of Oxford have scored a great victory…. Even the plea of immaturity, or the irresistible passion of the undergraduate for posing, cannot excuse such a contemptible and indecent action as the passing of that resolution’. Among those who agreed with this view was Winston Churchill.

On the liberal side, the Manchester Guardian responded differently: ‘The obvious meaning of this resolution (is) youth’s deep disgust with the way in which past wars for ‘King and Country’ have been made, and in which, they suspect, future wars may be made; disgust at the national hypocrisy which can fling over the timidities and follies of politicians, over base greeds and communal jealousies and jobbery, the cloak of an emotional symbol they did not deserve’.

As the debate over the debate raged, some opponents proposed that the union expunge the ‘King and Country’ motion from its records. This proposition too was put to vote, but it lost 750 to 138. An even higher ratio of people (84 per cent) voted for the right to debate and voice contrary opinions. The freedom to express a divergent view was defended even more vigorously.

Hubert Digby, proposer of the original motion, said, ‘I am certain if war broke out tomorrow the students of the university would flock to the recruiting office as their fathers and uncles did.’ When in 1939 World War II started, 2,632, out of a potential 3,000 students in Oxford, lined up to join the military. Many of them would have laid down their lives subsequently in the war.

People, especially youth, often act or speak contrary to what the State expects of them. US university students of the 1960s and ’70s, who opposed the Vietnam War, were branded as anti-national, but are today given credit for having more sense than the government of the day.

May be, 50 years hence, Kanhaiya and his fellow students will be judged differently.

Source Link: https://www.tribuneindia.com

Posted in Miscellaneous | Comments Off on Defend the right to disagree

Interview: Thespian Ramanjit Kaur makes her foray into short films

Sharmistha Ghosal

Born and raised in Chandigarh and settled in Kolkata since marriage, thespian and actor Ramanjit Kaur is among the frontrunners in the city, who have taken theatre out of the proscenium and turned it into a more participative, organic and intimate affair with active participation of the audience.

Recently, her latest production Beyond Borders, was performed at the 8th Theatre Olympics, one of the most prestigious global theatre events, by 29 women. The play, whose score has been composed by tabla maestro Tanmoy Bose, explored the inclusivity beyond the boundaries of nationality, religion, caste, creed or gender.  “It was an intimate play using all the elements of contemporary theatre such as, video art, installation art, photography, creative sound design and deconstruction of text,” tells Kaur, adding that as many as seven languages including English, Hindi, Punjabi, Bengali, Marwari and Garhwali were used in the play.

Thespian Ramanjit Kaur

But Kaur, whose plays have received accolades in India and abroad, is now busy exploring cinema as a medium of her artistic expression. I have already shot a short movie of five minutes. It’s a lyrical and poetic expression with only one person present on screen but no actor as such. I always was apprehensive of cinema as a medium and how to cut frames, but when I thought of this movie, I just knew what shots I exactly needed,” says Kaur, whose movie is in post production stage now. She wants to first send it to the festival circuits to reach the right kind of audience before releasing it online.

Kaur’s latest production, Beyond Borders, staged by 29 women

Though this is the first time Kaur is wielding the camera, she has been in front of it for a few movies including Deepa Mehta’s Fire, Earth and Heaven on Earth. Recently, she also finished shooting for a short, Mango Shake by an SRFTI student.

So, how different was shooting a film than staging a play, we ask Kaur, looking pretty in a red and black kurti, with her long mane falling like a cascade, caressing the sides of her long face. “It isn’t much different, just another medium of expression. Theatre has its charm in its temporariness, while cinema’s beauty lies in its posterity and permanence,” reflects the thespian while sipping her cappuccino in a cafe on a rain washed afternoon.

Kaur believes that new age theatre requires a lot of physical energy and fitness

Having trained under many a famous playwright including Clive Barker, author of Theatre Games, Kaur conducted her first theatre workshop with special children at Doon school, when she was only 15. Her desire to train and work with children in theatre, took formal shape in 2002, when she formed The Creative Arts, a performing arts institute for children and adults in Kolkata. Since then, the institute has been imparting systematised lessons in acting, voice training, expression, music dance and production design and help children build confidence and learn team work. “Back then the city had very random and sporadic workshops for children. This is perhaps the only institute to offer a parallel course for 12 years. More than 2,000 students have been groomed since then and are now either acting or successfully working in production houses,” says Kaur, with a glint of pride in her eyes.

A still from the play, Beyond Borders

Kaur feels that the days of drawing room drama or realistic theatre are over, with theatre becoming more physical and Kolkata is still lagging behind Bangalore, Kerala, Mumbai and even Delhi. “There is a lack of proper training here. Theatre has a very serious methodology and my concern is that some of the people who are teaching drama, how well are they trained in the art,” asks Kaur, who loves the work of Suman Mukherjee, Kaushik Sen, Bratya Basu and Manish Mitra here.

So, what’s Kaur’s next plan to take the cause of theatre forward? “Besides training children, I have an all women’s theatre course, which is one of its kind. The women get trained by national and international artistes including extensive vocal and physical training that go into holistic development of an individual as an artist. We also have masters visiting our centre and teaching them martial arts including Japanese Butoh and Kalaripayattu.

Source Link: http://www.indulgexpress.com

Posted in Miscellaneous | Comments Off on Interview: Thespian Ramanjit Kaur makes her foray into short films

After sparrows, frogs too vanish

Rakesh Kochhar

MONSOON has been in full swing. Rivers are in spate and there is waterlogging everywhere. But something is missing. There is no croaking of frogs to break the monotony of silence when the rain stops. There are no hopping frogs when you open the door to step out! Frogs and earthworms have been an integral part of monsoon for decades, possibly centuries. Most people older than those in the second decade of their lives would recollect the fun of chasing the ubiquitous frog at home or in school. But something has changed.

I was struck by the absence of the croaking of frogs when I ventured out after a downpour last week. My wife confirmed that the encounters with the jumping jacks are a thing of the past. It has been five-six years that the frogs have vanished, just like sparrows. I talked to some children in the neighbourhood and they wondered what I was discussing!

Intrigued, I googled. Way back in 1991, John Gilhen of Nova Scotia Museum, US, had written an article, ‘Where have all the frogs gone?’ He attributed the disappearance to rapid urbanisation and development with new roads, highways and sprawling townships. However, he found out that away from populated areas, into wilder areas, there were still plenty of frogs. Perhaps the same is the case in India. While we do not see sparrows in urban areas anymore, you will sight them easily in the open spaces of Himachal Pradesh.

Another reason for the disappearance of frogs, environmental experts say, is a fungal infection. Chytrid fungus, which infects skin cells of frogs, is responsible for the wiping out of entire populations. Infections can wipe out 50 per cent of the amphibians in an area within six months. Other reasons are loss of habitat, introduction of invasive species and pollution. One wonders if the radiation of mobile towers is also responsible.

The disappearance of frogs is a worldwide phenomenon. At the Kerala Science Congress earlier this year, a delegate from Delhi University said the shrinking rate of frogs worldwide was 74 per cent, but in India it was 80 per cent. He suggested measures should be taken to prevent the extinction of amphibians.

Frogs have been an important part of our ecosystem, playing a vital role by controlling pests and linking the terrestrial and aquatic foodchain. Frogs feed on mosquitoes and pests and provide food for fish, mammals and birds. It has been suggested that there is a link between the dwindling numbers of frogs and the increase in incidence of mosquito-borne diseases like malaria and dengue.

Amphibians are environmental indicators because of their sensitivity towards small changes in environment, according to an article in Scientific American. Looking at the impending ecological disaster, we must act now. Indeed, there is an organisation, ‘Save the Frogs’ which needs all our support.

Source Link: https://www.tribuneindia.com

Posted in Miscellaneous | Comments Off on After sparrows, frogs too vanish

जिनिलिया डिसूज़ा किसी से नहीं डरती!

अंजु शर्मा

आप नास्तिक हैं? आई मीन आप गॉड, डेविल, ऐंजिल इस सबको नहीं मानती हैं?” ऐना अक्सर ऐसे प्रश्नों के साथ अपनी जिज्ञासा की गेंद हौले से उनके पाले में सरका देती है. उसका काम केवल यहीं समाप्त नहीं होता था. गेंद अब भी उसी के अधिकार क्षेत्र से बंधी रहती थी. जिसके एक सिरे से छोटे-बड़े कई प्रश्नों की सिरीज़ मिसेज़ डिसूज़ा की प्रतीक्षा कर रही होती है. मिसेज़ डिसूज़ा ने कलम एक तरफ़ रखी. डायरी को धीमे से बंद किया और अपने सुनहरे चश्मे के फ्रेम को नाक पर सरकाते हुए प्रतिप्रश्न किया.
‘‘पहले ये बताओ आज तुम स्कूल क्यों नहीं गईं?’’
‘‘अरे… ये मेरे प्रश्न का उत्तर तो नहीं…’’ तनिक रूठने का अभिनय करते हुए ऐना ने फिर पूछा,‘‘बताइए ना, क्या आप मानती हैं गॉड को?’’
तब तक मिसेज़ डिसूज़ा फ्रिज में रखा केक निकाल चुकी थीं. उन्होंने एक बड़ा-सा पीस प्लेट में रखा और ऐना के सामने पेश कर दिया.
‘‘उम्म… मेरा पसंदीदा पाइनएप्पल केक? ओह… तो आप ब्राइब देना चाहती हैं ताकि मैं सवाल न पूछूं! एम आई राइट? नो चीटिंग आंटी डिसूज़ा.’’
‘‘नो, माय चाइल्ड… नो ब्राइब… नो चीटिंग. इट्स अ केक… तुम्हारा फ़ेवरेट पाइनएप्पल केक विद टॉपिंग ऑफ़ चेरी…’’
फिर उन्होंने ही कहा,‘‘ओके टेल मी स्वीटी, सवाल अभी पूछा तुम और केक तो मॉर्निंग में बनाया न तो ब्राइब कैसे हुआ? तुम केक खाओ. तुम्हारे सवाल का जवाब भी मिलेगा.’’ मिसेज़ डिसूज़ा ने ग्लास में जूस उड़ेलते हुए ऐना के सामने रख दिया और डायनिंग टेबल पर रखी चीज़ें संवारने लगीं.
उत्तर की आश्वस्ति से जिज्ञासा थोड़ी देर होल्ड पर चली गई. ऐना अपनी मनपसंद चीज़ों में व्यस्त हो गई. मिसेज़ डिसूज़ा जानती थीं कि यह अस्थाई मध्यांतर है. सवालों की यह पोटली जल्द ही उनके सामने फिर ख़ाली होगी. वे मुस्कुराकर भूमिका तलाशने लगीं. सवाल बेशक़ सुनने में जितना आसान था उसका उत्तर उतना ही जटिल हो सकता था.
केक खाते-खाते ही ऐना ने बताया कि उसे कल रात बुख़ार था तो उसकी मां, मिसेज़ एंजेला मैथ्यूज़ ने आज उसे रेस्ट करने के वास्ते स्कूल जाने से रोक लिया. सुबह से बुख़ार नहीं आया तो अब चंचल बच्ची घर में कैसे रुक सकती थी और बोरियत भगाने के सबसे सटीक हल के रूप में मिसेज़ डिसूज़ा उसके घर से कुछ क़दम की ही दूरी पर थीं.
मिसेज़ डिसूज़ा ने चिंतातुर हो बारह वर्षीया बच्ची के माथे को अपनी हथेली से धीमे से छुआ और बुख़ार का कोई लक्षण न पाकर राहत की सांस ली. सवालों की मिसाइल जल्द ही मिसेज़ डिसूज़ा की ओर दगने वाली है. पर उन्हें समय मिल गया था और इस बीच वे मन ही मन स्वयं को तैयार कर भी चुकी थीं.
ये सच है ऐना ने कभी मिसेज़ डिसूज़ा को चर्च जाते या प्रार्थना करते नहीं देखा था. संडे को भी नहीं. हां, वे कभी-कभार सीने पर क्रॉस ज़रूर बनाती थीं, पर उन्हें आस्तिक मान लेने के लिए इतना काफ़ी नहीं था ऐना के लिए. तो आज जब करने को ख़ास कुछ नहीं था, ऐना इस मामले की तह तक जाने की इच्छुक थी.
‘‘ओके…मैं तुम्हारी बात का जवाब ज़रूर दूंगी माय चाइल्ड. पर तुमको एक कहानी सुननी पड़ेगी,’’ चश्मा साफ़ करते हुए मिसेज़ डिसूज़ा ने कहा तो ऐना ख़ुशी से उछल पड़ी.
‘‘कहानी…’’
यह स्टोरी सेशन उसका फ़ेवरेट पासटाइम था. वह अपनी मां और ग्रैनी दोनों की जान हलकान किए रहती. बर्तन किचन में रखकर मिसेज़ डिसूज़ा बात करते-करते ही डायनिंग टेबल साफ़ कर चुकी थीं. उन्होंने धुलने वाले कपड़े वॉशिंग मशीन में डालकर उसे ऑन किया और ऐना से मुख़ातिब हुईं.
‘‘तो माय चाइल्ड, ये बात आज से क़रीब पच्चीस साल पुरानी है. इतनी ही उम्र उस लड़की की भी थी, जिसकी ये कहानी है. जेनी… घुंघराले बाल और दूधिया रंगतवाली वो लड़की, कुछ साल से दिल्ली जैसे शहर में एक टाइपिस्ट की नौकरी कर रही थी. घर में उसके अलावा अगर कोई था तो उसकी ओल्ड ग्रैनी जिन्हें वह बहुत प्यार करती थी, पर केवल प्यार से ही तो पेट नहीं भरता है इसलिए जेनी ने अपनी एक दोस्त की मदद से अपनी ट्रेनिंग के बेस पर एक नौकरी तलाश करने की मदद मांगी. और उस जैसी ज़हीन लड़की को जल्द ही एक प्राइवेट फ़र्म में नौकरी मिल भी गई. जेनी एक ट्रेंड टाइपिस्ट थी. मेहनती भी थी. उसने ऑफ़िस का क्लर्की वाला सब काम सीख लिया और शहर में अपने पांव जमाकर गांव से दादी को भी बुला लिया. अब न दादी अकेली रही न ही जेनी. दोनों साथ थीं और ख़ुश भी.’’
ऐना के एक्सप्रेशन्स से लग रहा था उसे कहानी में पूरी दिलचस्पी है.
सेमी ऑटोमेटिक मशीन में एक राउंड पूरा हो चुका था. मिसेज़ डिसूज़ा ने कपड़े ड्रायर बकेट में खंगालने के लिए डाले.
‘‘जेनी का सक्सेस मंत्रा था-हार्ड वर्क. तो वह मेहनत से कभी जी नहीं चुराती थी. यह दिसंबर के शायद पहले हफ़्ते की बात है. दिल्ली में हल्की गुलाबी ठंड वाला मौसम बड़ा ख़ुशगवार होता था उन दिनों. शाम होते ही धुंध की चादर पूरे वातावरण को ढक लेती थी. जेनी जल्दी काम निपटा रही थी. यूं तो उसकी उंगलियां तेज़ी से की-बोर्ड पर चल रही थीं, पर निगाह बार-बार कंप्यूटर की स्क्रीन से हटकर दीवार घड़ी पर चली जाती थी. वह समय की बहुत पाबंद थी, वक़्त पर अपनी टेबल पर मौजूद होती थी लेकिन वर्क प्रोफ़ाइल कुछ यूं था कि छुट्टी का वक़्त फ़िक्स नहीं हो पाता था. वैसे भी सर्दियों में छह बजते-बजते अंधेरा घिर आता था. दो बस बदलकर घर आना होता था, क्योंकि उसका ऑफ़िस ख़ासा दूर पड़ता था. उसने नोट पैड पर अगले दिन के ज़रूरी काम लिखे और बैग संभालने लगी. तभी प्यून ने आकर ज़रूरी असाइमेंट का परचा थमा दिया. काग़ज़ों पर उसके साइन भी ज़रूरी थे, लिहाज़ा खिड़की से बाहर अंधेरे को निहारते हुए उसने बेमन से बैग वापस टेबल पर रख दिया.”
ऐना को समझ नहीं आया था कि उसके सवाल का जेनी की कहानी से क्या संबंध है. पर उसने धैर्य से कहानी सुनना तय किया, क्योंकि वह जानती थी कि मिसेज़ डिसूज़ा उसके सवाल को यूं ही नहीं टाल सकतीं.
मिसेज़ डिसूज़ा ने कपड़े बास्केट से निकाल लिए थे. ऐना ने कपड़े बाहर गार्डन में टंगी रस्सी पर सूखने के लिए डालने शुरू कर दिए. मुस्कुराते हुए मिसेज़ डिसूज़ा ने उसकी अधीरता और उसके इशारे को समझा और फिर कहानी शुरू कर दी.
“काम ख़त्म होते-होते एक घंटा और गुज़र गया. जब तक काग़ज़ात पूरे हुए, एक्साइज़ रजिस्टर में एेंट्री की और बिल पास किया तब तक एक और घंटा गुज़र गया. अब जल्दी से जेनी बाहर निकलने लगी तो उसकी सीनियर मिसेज़ अय्यर ने इशारा किया,‘रुको, टाइम देखो!’ देखा तो वाक़ई घड़ी आठ पन्द्रह बजा रही थी. घर पहुंचने में अभी क़रीब सवा घंटा और लगता. उसने सामने देखा तो प्यून गोविन्द उसके इशारे की प्रतीक्षा में था. उसके इशारे पर वह तेज़ी से बाहर भागा और अंधेरे में गुम हो गया. थोड़ी देर बाद गोविन्द ऑटो के साथ लौटा. गोविन्द को हिदायत थी ऑटो वाले का हुलिया और नंबर नोट करे.
‘‘ऑटो में बैठते हुए जेनी ने देखा ड्राइवर एक बुज़ुर्ग सरदारजी थे. दरम्याना क़द, गंभीर चेहरा और चेहरे पर अनुभव की आड़ी-तिरछी लकीरें बता रही थी कि उनकी उम्र कोई साठ के आसपास रही होगी. ऑटो में बैठकर उसने चलने का इशारा किया. गन्तव्य तो प्यून ने समझा ही दिया था. बाहर रात पूरी तरह गहरा चुकी थी. थकान अब सुकून की तलाश में थी, पर देर होने पर हुई परेशानी सुकून को आने कहां देती थी. ठंड लगने पर जेनी ने बैग से शॉल निकाला और कसकर लपेट लिया. उसकी मुस्तैद निगाहें रास्ते पर थीं. तभी मायापुरी चौक आ गया. उसने रेड लाइट से सीधे ही रामा रोड की ओर से निकलने के लिए कहा, सरदारजी ने सर हिलाया और उसके बताए शॉर्टकट पर ऑटो दौड़ा दिया.
‘‘रामा रोड के इंडस्ट्रियल एरिया में ज़्यादातर फ़ैक्ट्रियां और दफ़्तर बंद हो चुके थे. रोड बेहद सुनसान था. कोई ट्रैफ़िक नहीं. ऑटो से घर पहुंचने में बमुश्क़िल पौन घंटा लगता था. जेनी जब भी लेट होती थी इसी रास्ते से जाती थी. समय और किराया दोनों की बचत हो जाती थी. ऑटो रफ़्तार से दौड़ रहा था कि अचानक उसका संतुलन बिगड़ने लगा, इससे पहले कि जेनी कुछ समझती ज़ोरदार आवाज़ और एक झटके के साथ एक गोलचक्कर की पटरी पर चढ़कर ऑटो एकाएक रुक गया. जेनी बुरी तरह घबरा गई. ‘बेटाजी, ब्रेक फ़ेल हो गए थे… बाल बाल बचे,’ उसने सुना.
‘‘जेनी का कलेजा मुंह को आ गया, उसने धड़कते सीने पर क्रॉस बनाया और सरदारजी को भी शुक्रिया कहा कि उन्होंने इस मुश्क़िल घड़ी में धैर्य और अनुभव से ऑटो को संभाल लिया. सरदारजी ने उसे दूसरा ऑटो लेने की सलाह दी और ख़ुद ऑटो को धकेलते हुए ले जाने लगे. दूर-दूर तक न आदम, न आदम की ज़ात. जिस सुनसान सड़क के गोलचक्कर और चौराहे पर वह खड़ी थी वहां ना कोई बस आती थी और ना ही ऑटो. अचानक अख़बार में छपी बुरी ख़बरें उसके इर्द-गिर्द घूमने लगीं और मन किसी अनहोनी की आशंका से भर गया.”
मिसेज़ डिसूज़ा चुप हो गईं. “फिर क्या हुआ?” ऐना के चेहरे पर भी तनाव पसरा हुआ था. एक लड़की सुनसान सड़क पर बिल्कुल अकेली. मतलब कहानी बड़े ही दिलचस्प मोड़ पर थी.
“होना क्या था. एक मुसीबत से निकली अब दूसरी मुसीबत सामने थी. क्या करे? कहां जाए? इधर सरदारजी भी ऑटो धकेलते हुए जा चुके थे. तभी दाईं ओर की सड़क से एक और ऑटो आता दिखाई दिया. जेनी की आंखें ख़ुशी से चमक उठीं. उसने हाथ के इशारे से ऑटो रोका और बिना कुछ कहे उसमें सवार हो गई. ऑटो वाले को गन्तव्य बता ही रही थी कि बमुश्क़िल कुछ मीटर्स की दूरी पर वह ऑटो भी एक तेज़ आवाज़ के साथ रुक गया और लाख कोशिशों के बाद भी शुरू न हो सका. ‘ये सब हो क्या रहा है? बार-बार इतनी मिसहैप्निंग्स?’ जेनी डर के मारे कुछ सोच नहीं पा रही थी. दिमाग़ ने काम करना बंद कर दिया था और दिल ज़ोरों से धड़क रहा था. अब तो चौराहा भी पीछे छूट चुका था. जेनी ने वहां खड़े रहने की बजाय आगे बढ़ना तय किया ताकि कुछ तो रास्ता तय हो.
“यक़ीन मानो, इन चंद लम्हों में उसे अपने सारे डर याद आने लगे. बस तीन ही तो चीज़ों से डरती थी जेनी. नो माय लव… भूत, विच, चूहा, छिपकली, कॉक्रोच, शेर नहीं जेनी के तीन डर थे-एक पागल आदमी, दूसरा कोई बेसुध शराबी और….”
“और तीसरा क्या आंटी डिसूज़ा?”
“तीसरे डर के बारे में बाद में ऐना… पहले ये सुनो… यू नो माय चाइल्ड… हम जिस चीज़ से सबसे ज़्यादा डरते हैं, हमारे सबसे कमज़ोर और बुरे वक़्त में उसी से दो चार होना पड़ता है. दे से इट इज़ डेस्टिनी. और फिर जेनी का पहला और दूसरा डर, दोनों उसके सामने थे. अचानक उसने कुछ ही दूरी पर सामने आते एक पागल से दिखने वाले भिखारी को देखा जो लड़खड़ाते हुए चल रहा था. शायद शराब भी पी हुई थी. ‘उफ़ इन्हें रोटी नसीब न हो, जाने शराब कैसे मिल जाती है?’ जेनी बुदबुदाई. वह क़रीब आया तो उसकी सांस ही रुक गई. उसे लगा डर से कहीं मर न जाए, पर नहीं उसे अभी और जीना था. वह अपने डर को क़ाबू किए, सांस थामे, दीवार से लगभग चिपककर खड़ी हो गई. लड़खड़ाता हुआ शराबी भिखारी उसे घूरते हुए कुछ दूर निकल गया तो ही उसकी सांस वापस आई. अब तो वह लगभग भागते हुए तेज़ी से क़दम बढ़ाने लगी.
‘‘एकाएक उसे पीछे से किसी व्हीकल के आने का अहसास हुआ. उसके बेचैन मन में फिर से उम्मीद जगी. पीछे मुड़कर देखा तो दूर से एक लाइट दिखी. वह एक दुपहिया स्कूटर था. हालांकि जेनी अपने उसूलों की पाबंद थी और कभी भी किसी से लिफ़्ट नहीं लेती थी, लेकिन बुरे वक़्त में सबसे पहले उसूलों के डगमगाने की ही घड़ी आती है. किसी बुरी अनहोनी की आशंका ने जेनी को यह करने पर मजबूर कर दिया और उस वक़्त स्वतः ही किसी अदृश्य अनजान प्रेरणा से उसके दोनों हाथ मदद के लिए उठ गए. वह वेव कर रही थी कि दुपहिया उसके क़रीब आते हुए धीमा हुआ और पास आकर रुक गया. सवार ने हेलमेट लगाया हुआ पर उसकी क़दकाठी से जो जेनी ने महसूस किया वह यह था कि वह लगभग एक सत्ताईस-अट्ठाईस साल का युवक था. लगभग हकलाते हुए जेनी ने पूछा,‘प्लीज़ हेल्प मी सर… आ… आप कहां जा रहे है?’ यह सुन लड़के ने हैरानी से पूछा,‘आपको कहां जाना है? आप यहां!’
‘‘जेनी ने एक ही सांस में बताया और पूछा भी,‘वो…मेरे ऑटो के ब्रेक फ़ेल हो गए और दूसरा ऑटो ख़राब हो गया. आप मुझे शास्त्री नगर के पास छोड़ देंगे?’ उसने बताया उसे तो लक्ष्मी नगर जाना था…हां वो उसे रामा रोड पार कर फ़्लाई ओवर के पास छोड़ सकता है, क्योंकि वहां से उसे फ़्लाई ओवर पर जाना है. डूबते को तिनके नहीं पूरी नाव का सहारा मिल गया था, लेकिन… क्या उस अनजबी पर यक़ीन करना ठीक होगा? आशंकाओं से घिरी जेनी को स्कूटर पर बैठते ही ख़्याल आया… फिर सोचा,‘स्कूटर ही तो है… यदि किसी अनहोनी का अंदेशा भी हुआ तो आराम से कूद जाऊंगी.’ थोड़ा-सा आगे सरकते हुए लड़के ने कहा,‘कुछ नहीं होगा… आप इत्मीनान से बैठ जाइए.’ जेनी हैरान थी! उसे मेरे मन की बात कैसे मालूम चली? ख़ैर मन ही मन आज वह ग्रैनी के गॉड को याद कर रही थी. स्कूटर हवा से बातें करने लगा.
“तुम पूछता था न…जेनी का तीसरा डर? रफ़्तार… स्पीड थी जेनी का तीसरा डर. तेज़ स्पीड में उड़ते स्कूटर पर बैठी जेनी ने अपनी आंखें बंद कर लीं. उसे लग रहा था उसकी धड़कन अभी रुकी. धड़कन नहीं एक झटके से स्कूटर रुका. हैरानी से जेनी ने आंखें खोलीं, देखा महज़ कुछ ही मिनट में वे लोग फ़्लाई ओवर के पास थे. ‘इतनी जल्दी? आज क्या हो रहा है? कुछ समझ नहीं आ रहा!’ ख़ैर, यहां से उसका रास्ता अलग था, जेनी का अलग. उसने उसे मन से धन्यवाद दिया. अभी मिचमिचाती आंखें जो स्पीड के डर से पहले बंद थीं अब रौशनी की अभ्यस्त हो रही थीं. जेनी ने मुड़कर देखा, सामने कोई नहीं था. वह तेज़ रफ़्तार स्कूटर ग़ायब था. दो मिनट असमंजस में पड़ी जेनी किनारे पर खड़ी सामने पड़े ख़ाली रास्ते को घूरती रही, फिर चल पड़ी. रेड लाइट पार बस स्टैंड से उसने ऑटो लिया. घर पहुंचते-पहुंचते पूरे सवा दस बज चुके थे. उन दिनों न मोबाइल होता था, न घर पर फ़ोन… तो ग्रैनी अलग परेशान थीं. वे कब से दरवाज़े और बरामदे का चक्कर काट रही थीं. जेनी को सकुशल लौटा देख उनकी जान में जान आ गई.
“कॉफ़ी की चुस्कियों के साथ जेनी ने ग्रैनी को सारी कहानी कह सुनाई. ठीक वैसे ही जैसे मैं तुम्हें सुना रही हूं. जानती हो ग्रैनी ने क्या कहा? उन्होंने गले में पड़े क्रॉस को चूमते हुए आंखों से छुआया और जेनी के हाथ अपने हाथ में लेते हुए कहा,‘तुम गॉड में, एंजेल में और डेविल में जास्ती बिलीव नहीं करता ना जेनी… अबी मैं तुमको बताएगा डियर. तुम बोलता है न एक साथ इतना सब मिसहैप्निंग कैसे? इसलिए कि कोई बैड सोल यानी बुरी आत्मा तुम्हारे पीछे थी. और वो मैन जो तुमको लिफ़्ट दिया वो गुड सोल था…कोई फ़रिश्ता… यानी एंजिल… जिसने तुमको उस सिचुएशन से निकालकर बाहर लाया, माय बेबी. सब गॉड का मर्ज़ी है. उसकी मर्ज़ी के बिना पत्ता भी नहीं हिलने को सकता.’ ग्रैनी की बातें सुनकर जेनी के चेहरे पर थोड़े से नाराज़गी के भाव दिखे. ‘ओह ग्रैनी… स्टॉप इट नाउ… बस करो… कोइंसिडेंस बोलते हैं इसे. संयोग… संयोग से एक के बाद एक घटनाएं घटती रहीं. बस और कुछ नहीं…’ बोलकर जेनी अपने कपड़े बदलने चली गई.
“तो डियर ऐना, मैं मानती हूं कि घटनाएं घटती रहती हैं और हम इनसे गुज़रते रहते हैं. इस दुनिया में जो कुछ भी घटता है हम उसे अपनी सुविधा के अनुसार कैटेगराइज़्ड कर लेते हैं. ये अच्छा हुआ, ये गॉड ने किया. ओफ़्फ़ो… ये बहुत बुरा हुआ… ये डेविल ने किया… या अचानक कुछ प्लेज़ेंट हुआ तो ये तो पक्का एंजेल ने ही किया… पर ये सब संयोग ही तो होता है कि घटनाएं घटती हैं और उनके घटित होने के बाद उनके परिणाम को लेकर हम उनके होने की कोई न कोई वजह तय कर लेते हैं. ओन्ली अवर परसेप्शन डियर… जैसे उस दिन मेरे साथ घटा,’’ कॉफ़ी के लिए फ्रिज से दूध निकालते हुए मिसेज़ डिसूज़ा ने कहा.
“ओह माय गॉड… तो आप ही थीं जेनी, मिसेज़ डिसूज़ा… हम्म… जिनिलिया डिसूज़ा… देखा मुझे लग रहा था.” टेबल पर रखी उस डायरी की ओर देखते हुए जिसके कवर पर लिखा था ‘जिनिलिया डिसूज़ा,’ मुस्कुराते हुए ऐना ने कहा.
तभी मिसेज़ मैथ्यूज़ की पुकार सुनाई दी और ऐना बाय बोलकर दौड़कर अपने घर चली गई. कॉफ़ी का सिप लेते हुए एक बार फिर वे सारी घटनाएं मिसेज़ डिसूज़ा के स्मृति पटल पर एक फ़िल्म की माफ़िक़ घूमने लगीं. उन्होंने डायरी खोली और लिखना शुरू किया.
‘उस दिन रामा रोड के उस रास्ते के पलक झपकते ही पार हो जाने पर मैं ज़्यादा हैरान नहीं हुई, क्योंकि उसका कारण मुझे तेज़ रफ़्तार ही समझ में आया. पीछे मुड़कर देखने पर स्कूटर सवार के ग़ायब हो जाने पर भी मैं बहुत हैरान नहीं थी, क्योंकि तेज़ स्पीड के डर से मेरी आंखें बंद होने और मेन रोड पर रौशनी की चकाचौंध में उसका नज़रों से ओझल हो जाना ऑब्विअस ही लगा मुझे. ख़ैर, मैं ऐना को कभी ये नहीं बताऊंगी कि मैंने उस कम्पनी में चार साल नौकरी की पर देर होने पर कभी भी ऑटो को रामारोड से जाने को नहीं कहा. दरअस्ल, मैं आज तक कभी दिन में भी उस रास्ते से नहीं गुज़री. पर मैं आज तक नहीं भूल पाती हूं कि कैसे मेरे रौंगटे खड़े हो गए थे, जब अगले दिन मैंने न्यूज़पेपर में पढ़ा कि जखीरा का वह फ़्लाई ओवर और उधर जाता रास्ता तो रिपेयर होने की वजह से पिछले दो दिन से बंद था. वह कौन था और कहां गया?’

Source Link: https://www.femina.in

Posted in Miscellaneous | Comments Off on जिनिलिया डिसूज़ा किसी से नहीं डरती!